Advertisment

Ayodhya Ram Temple: श्री राम लला के दर्शन के लिए भक्तों का उमड़ा हुजूम, तड़के तीन बजे से लगी कतार

Ayodhya Ram Temple: रामलला की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद पहली सुबह श्री राम लला के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं। श्री राम मंदिर के मुख्य द्वार पर रामलला के दर्शन के लिए भक्त सुबह तीन बजे से ही बड़ी संख्या में जुटने शुरू हो गए।

author-image
Deepak Kumar
New Update
gfgb

श्री राम लला के दर्शन के लिए भक्तों का उमड़ा हुजूम, तड़के तीन बजे से लगी कतार

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

ब्यूरोः रामलला की प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद पहली सुबह श्री राम लला के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं। श्री राम मंदिर के मुख्य द्वार पर रामलला के दर्शन के लिए भक्त सुबह तीन बजे से ही बड़ी संख्या में जुटने शुरू हो गए।  आज से रामलला आम श्रद्धालुओं को दर्शन देंगे। गर्भगृह में विराजमान आराध्य के साथ नवीन विग्रह को भी श्रद्धालु निहार सकेंगे। भीड़ बढ़ने पर रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट दर्शन की अवधि को विस्तार देगा।

Advertisment

 

Advertisment

रामलला के दर्शन का समय

रामलला के दर्शन की शुरुआत सुबह 7 बजे से हो गई। पहली पाली में पूर्वाह्न 11:30 बजे तक दर्शन हो सकेंगे। इसके बाद दूसरी पाली में दोपहर दो बजे से शाम 6:30 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है। इस बीच सोमवार को भी आम श्रद्धालु रामलला के दर्शन नहीं कर सके। प्राण प्रतिष्ठा समारोह के बाद सिर्फ विशिष्ट अतिथियों को ही दर्शन कराया गया।

रामलला का भोग

Advertisment

दोपहर में रामलला को पूड़ी-सब्जी, रबड़ी-खीर के भोग के अलावा हर घंटे दूध, फल व पेड़े का भी भोग लगेगा। रामलला सोमवार को सफेद, मंगलवार को लाल, बुधवार को हरा, बृहस्पतिवार को पीला, शुक्रवार को क्रीम, शनिवार को नीला व रविवार को गुलाबी रंग वस्त्र पहनेंगे। विशेष दिनों में वे पीले वस्त्र धारण करेंगे। अब रामलला की 24 घंटे के आठों पहर में अष्टयाम सेवा होगी। इसके अलावा रामलला की 6 बार आरती होगी। आरती में शामिल होने के लिए पास जारी होंगे। अब तक रामलला विराजमान की दो आरती होती थीं। 

रामलला की मंगला, शृंगार, भोग, उत्थापन, संध्या व शयन होंगी आरती 

रामलला के पुजारियों के प्रशिक्षक आचार्य मिथिलेशनंदिनी शरण ने कहा कि अब रामलला की मंगला, शृंगार, भोग, उत्थापन, संध्या व शयन आरती होंगी। संभव है उत्थापन आरती पुजारी खुद कर लें और फिर दर्शन के लिए पर्दा खोलें। इसे लेकर ट्रस्ट ही घोषणा करेगा।

ayodhya-ram-temple Ram Lala Pran Pratishtha
Advertisment