Mon, Jun 24, 2024

राजदरी-देवदरी की खूबसूरत वादियां बनेंगी ईको और एडवेंचर्स टूरिज्म का बड़ा केंद्र

By  Bhanu Prakash -- February 24th 2023 11:43 AM -- Updated: February 24th 2023 11:45 AM
राजदरी-देवदरी की खूबसूरत वादियां बनेंगी ईको और एडवेंचर्स टूरिज्म का बड़ा केंद्र

राजदरी-देवदरी की खूबसूरत वादियां बनेंगी ईको और एडवेंचर्स टूरिज्म का बड़ा केंद्र (Photo Credit: File)

- योगी सरकार चंद्रप्रभा वाइल्ड लाइफ़ सेंचुरी को ईको टूरिज्म के तौर पर विकसित करने जा रही है

- देवदरी में पूर्वांचल का पहला स्काई वाक, ज़िप लाइन के साथ अन्य एडवेंचर्स गतविधियां हो सकेंगी

- देश-विदेश से आने वाले पर्यटक भी पूर्वांचल की प्राकृतिक सुंदरता से हो सकेंगे रूबरू 

- चंदौली में ईको टूरिज्म विकसित होने से स्थानीय लोगों को मिलेगा बड़े पैमाने पर रोजगार

चंदौली, 23 फरवरी। दुनिया के सबसे पुराने जीवंत शहर और भारत की अध्यात्मिक व सांस्कृतिक राजधानी काशी के पड़ोस के जिले चंदौली को ईको टूरिज्म का बड़ा हब बनाने की तैयारी है। कभी नक्सलियों का गढ़ रहा चंदौली का नौगढ़ इलाका योगी सरकार में ईको टूरिज्म के बड़े केंद्र के रूप में उभरने जा रहा है। यहां पूर्वांचल का पहला स्काई वॉक देवदरी वाटरफॉल में जल्द ही बनने जा रही है। देवदरी वाटर फाल पर अब ग्लास ब्रिज का निर्माण होगा। योगी सरकार का लक्ष्य है कि चंद्रप्रभा वाइल्ड लाइफ़ सेंचुरी को ईको टूरिज्म के तौर पर विकसित किया जाए। 


दो-दो करोड़ के तीन प्रोजेक्ट 

जिलाधिकारी चंदौली ने ईको टूरिज्म को बढ़ावा देने वाले राजदरी और देवदरी के लिए 2-2 करोड़ के तीन प्रोजेक्ट की मंजूरी के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा है। इसमें देवदरी वाटरफाल पर स्काई वॉक, ज़िप लाइन, क्लिफ स्विंग और चंद्रकांता थीम पार्क के साथ अन्य एडवेंचर्स गतविधियां हो सकेंगी। वहीं राजदारी में भी ईको टूरिज्म को विकसित किया जा सकेगा। चंदौली के राजदरी-देवदरी ईको टूरिज्म के विकसित होने से स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा, जिससे उनका जीवन स्तर ऊपर उठे सकेगा। 


पूर्वांचल का हिल डेस्टिनेशन है राजदरी-देवदरी

प्राकृतिक सम्प्रदा से भरा हुआ जिला चंदौली नेचुरल ब्यूटी और वाटर फाल के लिए जाना जाता है। चंदौली को हरी भरी पहाड़ियों और कई वाटरफॉल के चलते पूर्वांचल के हिल स्टेशन के रूप में भी  जाना जाता है। चंदौली की निवर्तमान ज़िलाधिकारी ईशा दुहन ने बताया कि चंद्रप्रभा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी के अंतर्गत राजदरी- देवदरी में विकास करने की योजना बनाई गई है। देवदरी पर ग्लास ब्रिज बनाया जाना है, जिस पर पर्यटक स्काईवॉक कर सकेंगे और पूरे देवदरी के प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद उठा सकेंगे। इसके साथ ही ज़िप लाइन, क्लिफ स्विंग, अय्यारी और रहस्य के लिए मशहूर चंद्रकांता थीम पार्क और अन्य एडवेंचर्स गतिविधियों, फ़ूड कोर्ट और टूरिस्ट इंटरप्रिटेशन सेण्टर के लिए भी प्रस्ताव शासन को भेजा है।

ईको शॉप पर बिकेंगे स्थानीय उत्पाद

देवदरी और राजदरी की आपस में दूरी 1 किलोमीटर से भी कम है। राजदरी में भी स्थानीय उत्पादों से ईको शॉप बनाकर स्थानीय लोगों को देने की योजना है। रॉक क्लाइम्बिंग, टायर नेट वाल, कमांडो नेट वाल, गजिबो, ईको रिसोर्ट आदि की भी सुविधा यहां उपलब्ध कराई जाएगी, जिससे पर्यटक ईको टूरिज्म के साथ ही एडवेंचर टूरिज्म का भी आनंद ले सकेंगे।


काशी आने वाले पर्यटकों को लुभाएंगी चंदौली की खूबसूरत वादियां  

योगी सरकार वाराणसी आने वाले पर्यटकों को चंदौली के प्राकृतिक सौंदर्य की तरफ आकर्षित करना चाहती है। जिससे चंदौली के पर्यटन उद्योग को बढ़ावा मिले। ज़िलाधिकारी चंदौली ने बताया कि वाराणसी से करीब 70 किलोमीटर की दूरी पर राजदरी-देवदरी वाटर फाल है। इसके विकसित होने से पूर्वांचल के लोगों को एक बेहतरीन आउटिंग और पिकनिक स्पॉट मिल जायेगा। वही देश विदेश से आने वाले पर्यटक भी खूबसूरत प्राकृतिक वादियों का लुत्फ उठा सकेंगे, जिससे चंदौली के स्थानीय लोगों को रोजगार मिल सकेगा।

  • Share

ताजा खबरें

वीडियो