Advertisment

कानपुर के हैलेट अस्पताल में बड़ी लापरवाही, तीन वार्ड में मिले एक्सपायरी इंजेक्शन

यूपी के कानपुर के हैलट अस्पताल में बरती जा रही लापरवाही से मरीजों की जान खतरे में पड़ सकती है।

author-image
Shivesh jha
Updated On
New Update
कानपुर के हैलेट अस्पताल में बड़ी लापरवाही, तीन वार्ड में मिले एक्सपायरी इंजेक्शन

यूपी के कानपुर के हैलट अस्पताल में बरती जा रही लापरवाही से मरीजों की जान खतरे में पड़ सकती है। अस्पताल के वार्डों में एक्सपायरी डेट के इंजेक्शन मिले हैं इन दवाओं को नष्ट करने के बजाय अलमारियों में सुरक्षित रखा गया था। नर्स अलमारियों से इंजेक्शन निकालकर रोगियों को लगाती है, ऐसे में धोखा भी हो सकता था।

Advertisment

शनिवार को जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. संजय काला की अगुवाई में अभियान चलाया गया तो दो-तीन वार्डों में एक्सपायरी डेट के एंटीबायोटिक दवाओं के इंजेक्शन मिले। इसके बाद वार्ड की प्रभारी नर्स के खिलाफ कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू कर दी गई। पहली कड़ी में नोटिस जारी किया गया है।

बता दें कि पिछले महीने जच्चा-बच्चा अस्पताल में एक महिला को एक्सपायरी इंजेक्शन लगाया गया था। इस पर खूब बवाल भी हुआ था। बाद में डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने मेडिकल कॉलेज प्रबंधन से रिपोर्ट मांगी थी। मेडिसिन विभाग के डॉ. एसके गौतम की अध्यक्षता में गठित जांच कमेटी की रिपोर्ट के बाद आउटसोर्सिंग नर्स की सेवाएं समाप्त कर दी गई।

प्रदेश के उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने कानपुर की घटना को निंदनीय बताया और कहा कि इस मामले में जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस मामले में किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा।

brijesh-pathak hallett-hospital-expiry-injections
Advertisment