Fri, Jun 21, 2024

Captain Vikram Batra's birth anniversary: सीएम योगी ने दी श्रद्धांजलि, बोले- उन्होंने देश की संप्रभुता-अखंडता की रक्षा के लिए दिया सर्वोच्च

By  Shagun Kochhar -- September 9th 2023 02:50 PM
Captain Vikram Batra's birth anniversary: सीएम योगी ने दी श्रद्धांजलि, बोले- उन्होंने देश की संप्रभुता-अखंडता की रक्षा के लिए दिया सर्वोच्च

Captain Vikram Batra's birth anniversary: सीएम योगी ने दी श्रद्धांजलि, बोले- उन्होंने देश की संप्रभुता-अखंडता की रक्षा के लिए दिया सर्वोच्च (Photo Credit: File)

ब्यूरो: आज देश के एक महान अमर शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा की बर्थ एनिवर्सरी है. देश कभी उनके बलिदान को भूल नहीं सकता. वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा को श्रद्धांजलि अर्पित की.


सीएम ने ट्वीट किया और लिखा, ''परमवीर चक्र' से सम्मानित कैप्टन विक्रम बत्रा मां भारती की रक्षा के लिए कारगिल युद्ध में अंतिम सांस तक दुश्मनों से लड़ते रहे. उन्होंने देश की संप्रभुता-अखंडता की रक्षा के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया, जो आज भी देशभक्ति की एक महान मिसाल है. आज उनकी जयंती पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि!'


विक्रम बत्रा की कहानी...

9 सितंबर, 1974 को हिमाचल प्रदेश के शांत शहर पालमपुर में जन्मे कैप्टन विक्रम बत्रा, जिन्हें प्यार से "शेर शाह" के नाम से जाना जाता है, उन्होंने 1999 के कारगिल युद्ध के दौरान अपनी उल्लेखनीय वीरता के माध्यम से अपना नाम हमेशा के लिए देश के दिलों में दर्ज कर लिया। जैसा कि हम उनकी जयंती मना रहे हैं, आइए हम इस बहादुर सैनिक के जीवन और स्थायी विरासत के बारे में जानें, जिनकी कहानी हमारी सामूहिक स्मृति में अंकित है।


प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

विक्रम बत्रा की जड़ें एक साधारण पृष्ठभूमि से जुड़ी हैं, क्योंकि उन्होंने अपने प्रारंभिक वर्ष एक छोटे से हिमाचली शहर के शांत वातावरण में बिताए थे। उन्होंने अपनी शिक्षा स्थानीय स्कूल में प्राप्त की और चंडीगढ़ के डीएवी कॉलेज से कला में स्नातक की डिग्री हासिल की। अपने कॉलेज के वर्षों के दौरान, सशस्त्र बलों में जीवन जीने की गहरी लालसा उनके दिल में घर करने लगी, जिससे अपने प्यारे देश की सेवा करने की उनकी महत्वाकांक्षा जग गई।


सिपाही बनने का सफर

विक्रम बत्रा को भारतीय सेना में सेवा करने के उनके आजीवन सपने तक ले जाने वाला मार्ग चुनौतियों से भरा था। उन्हें कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा और कठिन चयन प्रक्रिया का सामना करना पड़ा। हालाँकि, उनके दृढ़ निश्चय और अटूट समर्पण ने उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। अंततः, उन्हें भारतीय सेना की 13 जम्मू और कश्मीर राइफल्स रेजिमेंट में नियुक्त किया गया, जो उनके शानदार सैन्य करियर की शुरुआत का प्रतीक था।


कारगिल युद्ध में वीरतापूर्ण कार्य

1999 में कारगिल युद्ध के दौरान कैप्टन विक्रम बत्रा की वीरता को काफी सराहा गया था। दुर्गम हिमालयी इलाके में भीषण युद्धों की विशेषता वाले इस युद्ध में अद्वितीय बहादुरी और अथक दृढ़ संकल्प की आवश्यकता थी। कैप्टन बत्रा ने इस कठिन समय के दौरान असाधारण साहस का प्रदर्शन किया और अपने साथियों और पूरे देश के लिए आशा और प्रेरणा की किरण बनकर उभरे।


उनके सबसे प्रतिष्ठित कारनामों में से एक प्वाइंट 4875 पर कब्जा करने के दौरान हुआ, इस स्थान का नाम उनके सम्मान में "प्वाइंट 4875, बत्रा टॉप" रखा गया। दुश्मन की लगातार गोलीबारी के सामने, उन्होंने दृढ़ संकल्प के साथ अपने सैनिकों का नेतृत्व किया, और उन्हें "ये दिल मांगे मोर!" के नारे से प्रेरित किया। उनकी अटल भावना और नेतृत्व इस ऑपरेशन की सफलता के लिए महत्वपूर्ण थे।


देश के लिए बलिदान

कैप्टन विक्रम बत्रा की वीरतापूर्ण यात्रा को अचानक रोक दिया गया क्योंकि उन्होंने अपने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया था। 7 जुलाई, 1999 को, प्वाइंट 4875 को पुनः प्राप्त करने के उद्देश्य से एक और महत्वपूर्ण मिशन के दौरान, वह दुश्मन की गोलीबारी में मारा गया, जिससे उसकी गंभीर चोटों के कारण मृत्यु हो गई। उनके अद्वितीय साहस, निस्वार्थता और राष्ट्र के प्रति अटूट प्रतिबद्धता के सम्मान में, उन्हें मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया, जो भारत में वीरता के लिए सर्वोच्च सैन्य सम्मान है।


विरासत और प्रेरणा

कैप्टन विक्रम बत्रा की विरासत न केवल भारतीय सेना के इतिहास के पवित्र इतिहास में बल्कि भारतीय जनता के दिलों में भी कायम है। उनकी गाथा को साहित्य, वृत्तचित्रों और 2021 में रिलीज़ हुई बॉलीवुड फिल्म "शेरशाह" के माध्यम से अमर कर दिया गया है, जिसने उनकी प्रेरक यात्रा को व्यापक दर्शकों तक पहुंचाया।


उनका जीवन अनगिनत युवा भारतीयों के लिए प्रेरणा का स्रोत बना हुआ है, जो उन्हें सशस्त्र बलों में शामिल होने और राष्ट्र की सेवा के लिए अपना जीवन समर्पित करने के लिए प्रेरित करता है। उनके गूंजते शब्द, "या तो मैं तिरंगा फहराकर वापस आऊंगा, या मैं तिरंगे में लिपटकर वापस आऊंगा, लेकिन मैं निश्चित रूप से वापस आऊंगा," उनके अटूट समर्पण के प्रमाण के रूप में गूंजते हैं। 


  • Share

ताजा खबरें

वीडियो