Advertisment

Ram Mandir: सरयू नदी के रास्ता बदलने पर राम मंदिर का क्या होगा? जानें कैसे हर आपदा से रहेगा सुरक्षित

Ram Mandir: क्या हो अगर सरयू नदी ने अपना रास्ता बदल लिया? आइए जानते हैं राम मंदिर को लेकर किए बंदोबस्त के बारे में पूरी जानकारी.............

author-image
Deepak Kumar
New Update
ss

Ram Mandir: सरयू नदी के रास्ता बदलने पर राम मंदिर का क्या होगा? जानें कैसे हर आपदा से रहेगा सुरक्षित

Listen to this article
0.75x 1x 1.5x
00:00 / 00:00

ब्यूरोः अयोध्या में श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा के बाद बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचने लगे हैं। रामलला की प्रतिमा के हजारों सालों तक सुरक्षित रहने का दावा किया जा रहा है। लेकिन क्या हो अगर सरयू नदी ने अपना रास्ता बदल लिया? आइए जानते हैं राम मंदिर को लेकर किए बंदोबस्त के बारे में पूरी जानकारी.............

Advertisment

aa

कई फीट नीचे तक रेतीली जमीन 

बता दें रामनगरी सरयू नदी के किनारे बसी हुई है। मंदिर बनाने की तैयारी के दौरान इंजीनियरों को रेतीली जमीन मिलती रही है, जिसके कारण इंजीनियरों के सामने बड़ी समस्या पेश हो गई थी. क्योंकि इससे नींव ही कमजोर हो सकती थी या फिर कुछ दशकों के बाद नदी की धारा मंदिर की तरफ मुड जाती है, तो क्या होगा। दरअसल सरयू ने पहले भी करीब 5 बार रास्ता बदला है। सरयू ही नहीं बल्कि सारी ही नदियां कुछ समय के बाद अपना रास्ता बदलती रहती है। वहीं, कई बार रुकावट के चलते नदी कई धाराओं में बंट जाती है। इसके सबसे बड़ा उदाहरण भारत की कोसी नदी है, जो अब तक 33 बार अपना रास्था बदल चुकी है। 

Advertisment

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट के जनरल सेक्रेटरी चंपत राय ने भी इसरो के हवाले से कहा कि सरयू नदी ने पहले करीब 5 बार अपना रूट बदला है। अगर इस बदलाव को देखें तो आने वाले 5 सौ सालों में एक बार फिर ये हो जाए, तो इसको ध्यान में रखते हुए मंदिर का निर्माण किया है।

ss

राम मंदिर की नींव

Advertisment

सरयू नदी के तट पर मिट्टी होने के चलते पहले 15 मीटर तक टेंपल एरिया की खुदाई कर मिट्टी हटाई गई। इसके बाद वहां खास तरह की मिट्टी पाटी गई। इसके ऊपर लगभग डेढ़ मीटर तक मेटल-फ्री कंक्रीट राफ्ट रखा गया, जिस पर कर्नाटक से आया 6 मीटर मोटा ग्रेनाइट पत्थर रखा गया। इतना कार्य सिर्फ मंदिर की मजबूती के लिए हुआ है। 

फिर इसके बाद तकनीकी विशेषज्ञों ने मंदिर का डिजाइन बनाया जो नदी के रास्ता बदलने या भूकंप जैसी आपदा में भी श्रीराम मंदिर को प्रोटेक्ट कर सके. इसके बाद मंदिर के चारों ओर एक रिटेनिंग वॉल तैयार की गई, जिसे कंक्रीट से तैयार किया गया। ये दीवार मंदिर को ऊपर और नीचे से सुरक्षित करेगी। रिपोर्ट्स की मानें वॉल जमीन के भीतर करीब 12 मीटर लंबी और सरफेस से ऊपर की ओर 11 मीटर की है और इस दीवार में ग्रेनाइट के पत्थर लगे हुए हैं।

as

Advertisment

लोहे का इस्तेमाल नहीं

मंदिर का मुख्य भवन 57 हजार स्क्वायर फीट में फैला हुआ है। इस भवन को तीन मंजिल का बनाया गया है। ध्यान रखने वाली बात है कि इसके फाउंडेशन में रत्तीभर भी लोहे का इस्तेमाल नहीं हुआ। क्योंकि सबसे बढ़िया क्वालिटी का आयरन भी 100 साल से कम उम्र तक रहता है और मौसम, पानी से लोहे की मजबूती कम हो जाती है। 

 

नागर शैली को चुना गया

मंदिर में नागर शैली को चुना गया है। बता दें ये शैली उत्तर भारत में मंदिर निर्माण को अपनी खूबसूरती के अलावा मजबूती के लिए जानी जाती है। नागर शैली में मंदिर बनाते हुए इन बातों का रखें ध्यान...

Advertisment
  • नागर शैली में मंदिर बनाते हुए मुख्य इमारत ऊंची जगह पर बनी होती है, जिस पर ही गर्भगृह होता है, जहां मंदिर के मुख्य देवी या देवता की पूजा होती है।
  • गर्भगृह के ऊपर शिखर और चारों तरफ प्रदक्षिणा पथ होता है।
  • इसके साथ कई और मंडप होते हैं, जिनपर देवी-देवताओं या उनके वाहनों, फूलों की नक्काशी बनी होती है।

ram lala

नागर शैली में बने मंदिर

बता दें मध्यप्रदेश का कंदरिया महादेव टेंपल, कोणार्क और मोढेरा के सूर्य मंदिर प्राचीन नागर शैली में ही बने हैं। इनकी मजबूती और सौंदर्य आज भी बरकरार है।

ayodhya-ram-temple Ram Lala Pran Pratishtha Saryu River
Advertisment