Advertisment

पुलिस के हत्थे चढ़े साइबर क्राइम के अपराधी, PAYTM और QR कोड से लोगों से करते थे ठगी

ब्यूरो: साइबर क्राइम के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। आए दिन ऐसी वारदातें सामने आती रहती हैं कि जिसमें लोगों के साथ फ्रॉड होता है। इसी कड़ी के चलते पुलिस अधीक्षक सिंहभूम को एक गुप्त सूचना मिली थी। जिसके आधार पर जुबली तालाब रोड स्थित साइबर कैफे सीपीएस सेंटर से एक संदिग्ध साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया गया है।

author-image
Shagun Kochhar
Updated On
New Update
पुलिस के हत्थे चढ़े साइबर क्राइम के अपराधी, PAYTM और QR कोड से लोगों से करते थे ठगी

ब्यूरो: साइबर क्राइम के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। आए दिन ऐसी वारदातें सामने आती रहती हैं कि जिसमें लोगों के साथ फ्रॉड होता है। इसी कड़ी के चलते पुलिस अधीक्षक सिंहभूम को एक गुप्त सूचना मिली थी। जिसके आधार पर जुबली तालाब रोड स्थित साइबर कैफे सीपीएस सेंटर से एक संदिग्ध साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया गया है। संदिग्ध की पहचान अनिकेत कुमार मिश्रा उम्र 25 वर्ष, पिता बासुकीनाथ मिश्रा, सा०- तेलोडीह, थाना- राजधनवार, जिला गिरीडीह के रूप में हुई है। 

Advertisment



साइबर कैफे के संचालक PAYTM और QR कोड के माध्यम से साइबर फ्रॉड करते थे। साइबर फ्रॉड कर मंगाए गए 171520 रूपए भी सीपीएस संचालकों से किए गए थे। इसके अलावा इस काम में एक और आरोपी भी शामिल है। जिसकी पहचान छोटू मण्डल, उम्र 25 वर्ष, पिता सुन्दर मण्डल, सा० मरगोडीह, थाना- गाण्डेय, जिला- गिरीडीह के रूप में हुई है। बता दें ये पूरी कार्रवाई एसएचओ प्रवीण कुमार के नेतृत्व में की गई।



Advertisment

आरोपियों से पूछताछ में यह पता चला है कि वह यह फ्रॉड लिंक और लोगों को काम देने के बहाने से करते थे। लक्की ड्रा के नाम से भी लोगों को चूना लगाते थे। जिसके बाद वह PAYTM और QR कोड के जरिए लोगों के एकाउंट से पैसे ट्रांसफर कर लेते थे और उन्हें पता भी नहीं चलता था। 



पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 171520 रूपए, दो मोबाइल फोन, दो एटीएम, दो कार्डरीडर और एक पेनड्राइव  बरामद किया है।



up-police uttar-pradesh-news up-crime-news
Advertisment