Fri, Apr 19, 2024

अतीक के अवैध साम्राज्य पर शिकंजा कसने की तैयारी में ED, 100 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति होगी अटैच

By  Shagun Kochhar -- May 8th 2023 04:41 PM
अतीक के अवैध साम्राज्य पर शिकंजा कसने की तैयारी में ED, 100 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति होगी अटैच

अतीक के अवैध साम्राज्य पर शिकंजा कसने की तैयारी में ED, 100 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति होगी अटैच (Photo Credit: File)

प्रयागराज: अतीक अहमद के अवैध कारोबार से जुड़े लोगों पर शिकंजा कसने के साथ साथ अब अतीक के अवैध साम्राज्य पर भी शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है. ईडी जल्द की माफिया अतीक अहमद के अवैध साम्राज्य पर बड़ी कार्रवाई करेगी.


ईडी ने अतीक की 100 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति की चिन्हित

जानकारी के मुताबिक, प्रवर्तन निदेशालय ने अतीक अहमद की 100 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति को चिन्हित कर लिया है. अतीक की ये अवैध संपत्तियां प्रयागराज, लखनऊ और नोएडा में चिन्हित की गई है. ये संपत्तियां बेनामी है, इन्हें अतीक ने अपने जान पहचान और रिश्तेदारों के नाम पर किया हुआ था.


प्रयागराज, लखनऊ और नोएडा में अतीक की प्रॉपर्टी

मिली जानकारी के मुताबिक, अपनी दहशत और अवैध कारोबार के दम पर अतीक ने प्रयागराज में 50 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति बना ली थी. ईडी ने यहां 50 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति को चिन्हित किया है. वहीं लखनऊ में  20 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति को चिन्हित किया गया है. इसके अलावा नोएडा में 30 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति को चिन्हित किया गया है. 


अतीक अहमद के काले कारोबार का खुलासा करने के लिए लगातार पुलिस हर उस शख्स से पूछताछ कर रही है जो अतीक या उसके परिवार से किसी न किसी तरह जुड़ा हो सकता है. उसी कड़ी में ईडी ने अतीक के करीबियों के घर छापेमारी की और उसी रेड में इन संपत्तियों का खुलासा हुआ है. इस रेड में ईडी के हाथ कई अहम दस्तावेज भी लगे हैं. अब इन दस्तावेजों का सत्यापन करवाया जाएगा. फिर इन संपत्तियों को मनी लॉन्ड्रिंग के तहत अटैच किया जाएगा.


अतीक अहमद हत्याकांड की जांच तेज

वहीं दूसरी तरफ अतीक अहमद और अशरफ के मर्डर केस की जांच लगातार तेज हो रही है. अब पुलिस ने उमेश पाल हत्याकांड और अतीक अहमद हत्याकांड के बीच की कड़ी को तलाशना शुरू कर दिया है. सोमवार को एसआईटी जांच के लिए कौंधियारा पहुंच गई है. उमेश पाल हत्याकांड में हुए विजय चौधरी उर्फ उस्मान के इनकाउंटर का एसआईटी स्थलीय निरीक्षण करेगी. बता दें विजय चौधरी उर्फ उस्मान ने उमेश पाल पर सबसे पहले गोली चलाई थी. ये जांच झारखंड हाई कोर्ट के पूर्व जस्टिस वीरेंद्र सिंह और इलाहाबाद हाई कोर्ट के पूर्व जस्टिस दिलीप बाबा साहेब भोसले की अध्यक्षता हो रही है.





  • Share

ताजा खबरें

वीडियो