Advertisment

नगरीय निकाय चुनाव : विपक्ष ने चुनाव से पहले मानी हार ?, योगी ने संभाली कमान,अखिलेश और मायावती नहीं दिखे मैदान में

तो क्या नगरीय निकाय चुनावों में विपक्ष ने चुनाव के पहले ही अपनी हार कबूल कर ली है? क्या अपने चुनिंदा गढ़ों को बचाने की चिंता में उन्होंने पूरे प्रदेश में सत्तापक्ष (भाजपा) को वॉकओवर दे दिया है ? पहले चरण के चुनावों के लिए 4 मई को मतदान होना है। 2 मई को चुनाव प्रचार थम जाएगा। UP News UP, Nikay election 2023, opposition has accepted defeat

author-image
Rahul Rana
Updated On
New Update
नगरीय निकाय चुनाव : विपक्ष ने चुनाव से पहले मानी हार ?, योगी ने संभाली कमान,अखिलेश और मायावती नहीं दिखे मैदान में

ब्यूरो : तो क्या नगरीय निकाय चुनावों में विपक्ष ने चुनाव के पहले ही अपनी हार कबूल कर ली है? क्या अपने चुनिंदा गढ़ों को बचाने की चिंता में उन्होंने पूरे प्रदेश में सत्तापक्ष (भाजपा) को वॉकओवर दे दिया है ? पहले चरण के चुनावों के लिए 4 मई को मतदान होना है। 2 मई को चुनाव प्रचार थम जाएगा। इस लिहाज से देखें तो अब पहले चरण में प्रचार के लिए गिनती के चंद रोज ही बचे हैं। और अब तक प्रमुख विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और कांग्रेस की कहीं से भी सक्रिय नहीं नजर आती है। इसकी तुलना में भाजपा के सरकार और संगठन ने इन चुनावों में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। अप्रैल की गर्मी से बेपरवाह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुआई में दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक एवं अन्य मंत्री फील्ड में पसीना बहा रहे हैं। स्थानीय सांसदों एवं विधायकों को भी बागियों को मनाने एवं हर हाल में जीत हासिल करने का साफ संदेश संगठन की ओर से दिया जा चुका है।

Advertisment



रही विपक्ष की बात तो उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा 10 महीने से प्रदेश में आयी ही नहीं। फिलहाल वह कर्नाटक के चुनावों में व्यस्त हैं।समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव अभी तक फील्ड से नदारद हैं। संभव है अंतिम दो- चार दिनों के दौरान वह लखनऊ समेत कुछ चुने हुए जिलों में सभाएं करें। बसपा की सुप्रीमों मायावती प्रचार के लिए निकलेंगी इसकी कोई उम्मीद फिलहाल नहीं है। रही उप्र में बिना किसी जमीन के  पांव पसारने की कोशिश करने वाली केजरीवाल के आम आदमी पार्टी (आप) की तो इसके अकेले किरदार सांसद संजय सिंह हैं। उनका सारा प्रयास प्रेस कॉन्फ्रेंस तक ही सीमित है।



Advertisment

CM योगी ने संभाली कमान

हर चुनावों की तरह इस चुनाव की भी कमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संभाल ली है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर, शामली,अमरोहा,उन्नाव, रायबरेली, लखनऊ में उनकी जनसभाएं हो चुकी हैं। गुरुवार को आगरा, मथुरा, फिरोजाबाद में उनकी सभाएं हुई जबकि आज शुक्रवार को नैमिषारण्य, लखीमपुरखीरी, बलरामपुर एवं गोरखपुर में भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रस्तावित कार्यक्रम हैं।

 शुक्रवार और शनिवार को  गोरखपुर मंडल के सभी जिलों में मुख्यमंत्री के कार्यक्रम लगें हैं। पहले दिन शुक्रवार को सिविल लाइंस स्थित आशीष मैरेज हाल (गोरखपुर क्लब परिसर) में चिकित्सको के सम्मेलन में भाग लेंगे। इसके बाद राप्तीनगर के डॉ भीमराव आंबेडकर जूनियर हाईस्कूल परिसर में एक सभा को भी संबोधित करेंगे। 

Advertisment

इस क्रम को जारी रखते हुए शनिवार को वह गोरखपुर महानगर के आर्यनगर उत्तरी स्थित सरस्वती विद्या मंदिर में  व्यापारी सम्मेलन में अपना मार्गदर्शन देंगे। इसके बाद  महराजगंज से जीएसवीएस डिग्री कॉलेज में जनसभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद कुशीनगर के उदित नारायण पीजी कॉलेज में पार्टी की ओर से आयोजित जनसभा को संबोधित करेंगे। शाम को देवरिया के राजकीय इंटर कॉलेज मैदान में भी मुख्यमंत्री एक चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। एक मई को गोरखपुर में टाउनहॉल पर  भी उनकी एक सभा होनी है। होगी। चूंकि गोरखपुर मुख्यमंत्री का गृह जनपद है। लिहाजा यहां की हार-जीत उनकी साख से जुड़ती है। यही वजह है कि गोरखपुर पर उनका खास फोकस है। इसके पहले भी 19 अप्रैल को वह वहां सभी जिलों की अलग-अलग बैठक कर कार्यकर्ताओं को जीत हासिल करने के टिप्स दे चुके हैं।

पहले चरण में मेयर की 10 सीटें

उल्लेखनीय है कि पहले चरण में 10 नगर निगमों के मेयर, 830 पार्षदों, 104 नगर पालिका अध्यक्ष, 276 नगर पंचायत अध्यक्ष और इनके सदस्य चुने जाने हैं।

 पहले चरण में सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मथुरा, आगरा, फिरोजाबाद, झांसी, प्रयागराज, लखनऊ, गोरखपुर और वाराणसी में मेयर चुने जाने हैं। 2017 के चुनावों में भाजपा ने इनपर क्लीनस्वीप किया था। इसी चरण में मैनपुरी और रामपुर भी हैं। यहां सपा के दम-खम की एक बार फिर परीक्षा होगी।

up-news up-nikay-election up-nikay-election-2023
Advertisment