Advertisment

योगी सरकार की क़वायद कारगर, 52 विदेशी निवेशक यूपी में निवेश को तैयार

फरवरी 2023 में होने वाली उत्तर प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (यूपीजीआईएस 2023) में दुनियाभर के दिग्गज कॉर्पोरेट लीडर हिस्सा लेने के लिए राजधानी लखनऊ आएंगे। प्रदेश सरकार के मंत्रियों की अगुवाई में विभिन्न देशों में रोड शो कर रही टीम योगी ने पहले चरण के रोड शो व वन टू वन बिज़नेस मीटिंग के ज़रिए तमाम विदेशी निवेशकों को यूपीजीआईएस में शामिल होने का न्यौता दिया है।

author-image
Mohd. Zuber Khan
Updated On
New Update
योगी सरकार की क़वायद कारगर, 52 विदेशी निवेशक यूपी में निवेश को तैयार

लखनऊ: फरवरी 2023 में होने वाली उत्तर प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (यूपीजीआईएस 2023) में दुनियाभर के दिग्गज कॉर्पोरेट लीडर हिस्सा लेने के लिए राजधानी लखनऊ आएंगे। प्रदेश सरकार के मंत्रियों की अगुवाई में विभिन्न देशों में रोड शो कर रही टीम योगी ने पहले चरण के रोड शो व वन टू वन बिज़नेस मीटिंग के ज़रिए तमाम विदेशी निवेशकों को यूपीजीआईएस में शामिल होने का न्यौता दिया है।

Advertisment

इनमें से 52 उद्योग समूहों की ओर से न सिर्फ़ उत्तर प्रदेश में निवेश की इच्छा ज़ाहिर की गई है, बल्कि इवेंट में शामिल होने की आधिकारिक पुष्टि भी की गई है। इनमें फार्मास्यूटिकल, बिज़नेस चैंबर, बिज़नेस डेवलपमेंट, इन्वेस्टमेंट बैंक, कैपिटल मार्केट, व्हीकल मोटर इंडस्ट्री, टेक्नोलॉजी, आरएंडडी, टेलीकॉम और फूड प्रोसेसिंग जैसे सेक्टर से जुड़े उद्योग समूह शामिल हैं।

पहले चरण में 9 दिसंबर को टीम योगी की ओर से जर्मनी के फ्रैंकफर्ट, यूके के लंदन, कनाडा के टोरंटो और मेक्सिको में रोड शो किया है। यह रोड शो मुख्यमंत्री योगी की मंशा के अनुरूप प्रदेश की अर्थव्यवस्था को वन ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने के लिए इस आयोजन के माध्यम से 10 लाख करोड़ के निवेश के लक्ष्य को साधने के लिए किया जा रहा है।

टीम योगी ने अपने व्यस्ततम शेड्यूल में रोड शो के साथ-साथ विभिन्न उद्योग समूहों के साथ व्यक्तिगत तौर पर भी मुलाक़ात कर उन्हें उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित किया है। इसके सकारात्मक नतीजे देखने को मिले हैं। पहले चरण के कार्यक्रम के खत्म होने के बाद 52 उद्योग समूहों ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ में होने वाले ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में हिस्सा लेने के लिए अपनी सहमति प्रदान कर दी है। इसके अलावा कई अन्य समूहों ने भी अपने प्रतिनिधि भेजने का आश्वासन दिया है, जिसकी अंतिम सहमति बाद में प्रदान की जाएगी।

Advertisment

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मार्गदर्शन में टीम योगी अपने विदेशी दौरे पर स्ट्रैटेजी के तहत धुआंधार तरीके़ से फरवरी में होने वाले इस आयोजन का प्रचार किया। वह उद्योग समूहों को उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए अनुकूल और सुरक्षित माहौल के प्रति आश्वस्त करने में कामयाब रहे। यही वजह है कि पहले ही चरण में 50 से ज़्यादा उद्योग समूह इस आयोजन में सम्मिलित होने को राजी हो गए और इस बात की पूरी संभावना है कि वो आयोजन में प्रदेश में बड़े निवेश की घोषणा करेंगे।

ये 52 उद्योग समूह वो हैं, जिन्हें पहले दौर में टीम योगी ने प्रदेश में निवेश और जीआईएस में आने के लिए तैयार किया है। अभी कई और चरणों में कई अन्य देशों में भी रोड शो और बिजनेस मीटिंग की जानी हैं। टीम योगी को स्पष्ट निर्देश हैं कि वो स्ट्रैटेजी के तहत रोड शो के अलावा उन निवेशकों से भी चर्चा करेंगे जिनमें प्रदेश में निवेश को लेकर पोटेंशियल होगा।

जानकारी के मुताबिक़ जिन विदेशी निवेशकों ने उत्तर प्रदेश में निवेश और यूपीजीआईएस में आने को लेकर अपनी सहमित प्रदान की है उनमें फार्मास्युटिकल से जुड़े धवल पटेल, इन्वेस्ट एशिया से अर्ने एटेर्बेलियन, कॉर्पोरेट फाइनेंस से जेरोएन मॉडेंस, चैंबर ऑफ लग्ज़मबर्ग से आदित्य शर्मा, बिज़नेस यूरोप से एलेना सुआरेज, क्रेडेनाडो के स्पेशलिस्ट विम बोसमैन, ईएसएफ इंडियन एसोसिएशन के एमडी पास्कल केरनीस, लग्ज़मबर्ग से सेल्वाराज अलगुमलाई, चेयरमैन बीआईसीसीएंडआई से बैरन फिलिप व्लेरिक और यूरोचैंबर्स से एक प्रतिनिधि शामिल होंगे। इसके अलावा आईएमईसी, बीआईओ ईआईबीसी के सीईओ, मल्हार फंड, यूरोपियन इन्वेस्टमेंट बैंक, डिप्लोमैटिक वल्र्ड, एसएमई कनेक्ट, इंडस्ट्री एंड स्पेस मिथरा, हुंडई मोटर ग्रुप, इंकोफिन, इंडिया हाउस ल्यूवेन, ल्युवेन माइंडगेट, टीसीएस, यूरोपियन इंस्टीट्यूट ऑफ एशियन स्टडीज, नोकिया, ईएलसीसी, वीडीएमएम, वल्र्ड टेलीकॉम लैब्स, एंटवर्प एमोटेक, टैग फैक्ट्री, एग्रिस्टो मासा, यूसीबी फॉर्मा और डेलॉयट बेल्जियम जैसी दिग्गज कंपनियों के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।

-PTC NEWS





news up-news
Advertisment