Advertisment

अनुप्रिया पटेल के बयान के बाद ओबीसी आरक्षण पर गरमाई सियासत

अनुप्रिया पटेल ने कहा कि आरक्षण रद्द होने के बाद तत्काल बिना देरी किए प्रदेश सरकार ने पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन किया और उसकी पहली बैठक भी संपन्न हो गई है, जिसमें पिछड़ों की स्थिति और उनकी संख्या का आकलन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसमें हो सकता है कि समय लगे, लेकिन हमारी एनडीए सरकार और अपना दल (एस) का भी स्पष्ट मत है कि पिछड़ों का आरक्षण तय करने के बाद ही नगर निकाय चुनाव कराए जाए।

author-image
Mohd. Zuber Khan
Updated On
New Update
अनुप्रिया पटेल के बयान के बाद ओबीसी आरक्षण पर गरमाई सियासत

लखनऊ: अपना दल ने केंद्रीय उद्योग एवं वाणिज्य राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल की अगुवाई में मासिक बैठक की। इस बैठक में प्रदेश भर से अपना दल (एस) के कार्यकर्ताओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। 

Advertisment

निकाय चुनाव से पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट द्वारा ओबीसी रिज़र्वेशन को रद्द किए जाने के मसले पर अनुप्रिया पटेल ने कहा कि आरक्षण रद्द होने के बाद तत्काल बिना देरी किए प्रदेश सरकार ने पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन किया और उसकी पहली बैठक भी संपन्न हो गई है, जिसमें पिछड़ों की स्थिति और उनकी संख्या का आकलन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसमें हो सकता है कि समय लगे, लेकिन हमारी एनडीए सरकार और अपना दल (एस) का भी स्पष्ट मत है कि पिछड़ों का आरक्षण तय करने के बाद ही नगर निकाय चुनाव कराए जाए।

केंद्रीय उद्योग एवं वाणिज्य राज्य मंत्री ने कहा कि सरकार ने लगातार 2014 से पिछड़े वर्ग को लेकर कई ऐतिहासिक फैसले लिए हैं क्योंकि मैं ख़ुद ही सरकार से जुड़ी रही। ऐसे में चाहे वह पिछड़ा वर्ग को संवैधनिक दर्जा देने का विषय हो या केंद्रीय और सैनिक विद्यालय में पिछड़े वर्ग के बच्चों को कोटे के तौर पर एक सुनिश्चित व्यवस्था करके अपनी प्रतिबद्धता को ज़ाहिर करने की बात हो।

ये भी पढ़ें:- सुप्रीम कोर्ट में मंज़ूर हुई OBC आरक्षण पर योगी सरकार की याचिका

वहीं, जातीय जनगणना से जुड़े सवाल पर अनुप्रिया ने कहा कि जाति जनगणना 2021 में होनी चाहिए थी, जिसमें अभी थोड़ी देरी हो रही है। उन्होंने ज़ोर देते हुए कहा कि जाति जनगणना ज़रूर होनी चाहिए, ताकि पता चले कि हमारे देश के अंदर सामाजिक ढांचे में जो अलग-अलग जातीय समुदाय के लोग रहते हैं, उनकी सही संख्या के क्या आंकड़े हैं, संख्या के साथ-साथ शैक्षिक पिछड़ेपन और सामाजिक दृष्टि से उनकी क्या तस्वीर है, वो सही आंकड़े देशवासियों के सामने आना चाहिए।

-PTC NEWS
news up-news
Advertisment