Advertisment

राम मंदिर मंदिर को अद्भुत बनाने में है सुदर्शन साहू, वासुदेव कामथ, केकेवी मनिया और शत्रुज्ञ देउलकर का अतुल्नीय योगदान

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सचिव चंपत राय ने कहा है कि मंदिर का निर्माण समय पर पूरा होगा और 2024 के जनवरी महीने में इसे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा। राम मंदिर निर्माण और प्रबंधन के लिए गठित ट्रस्ट के पदाधिकारी चंपत राय ने कहा कि मंदिर का निर्माण कार्य ज़ोरों पर चल रहा है और यह 2024 में बनकर तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कार्य लगातार प्रगति पर है। हम कह सकते हैं कि 2023 के अंत तक मूल गर्भगृह का निर्माण पूरा कर लिया जाएगा।

author-image
Mohd. Zuber Khan
Updated On
New Update
राम मंदिर मंदिर को अद्भुत बनाने में है सुदर्शन साहू, वासुदेव कामथ, केकेवी मनिया और शत्रुज्ञ देउलकर का अतुल्नीय योगदान

अयोध्या/लखनऊ:  हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को लेकर बड़ा दावा किया था। उन्होंने कहा था कि अयोध्या में अगले साल एक जनवरी तक राम मंदिर तैयार हो जाएगा। अब अमित शाह की घोषणा के बाद श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सचिव चंपत राय ने कहा है कि मंदिर का निर्माण समय पर पूरा होगा और 2024 के जनवरी महीने में इसे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा।

Advertisment

राम मंदिर निर्माण और प्रबंधन के लिए गठित ट्रस्ट के पदाधिकारी चंपत राय ने कहा कि मंदिर का निर्माण कार्य ज़ोरों पर चल रहा है और यह 2024 में बनकर तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कार्य लगातार प्रगति पर है। हम कह सकते हैं कि 2023 के अंत तक मूल गर्भगृह का निर्माण पूरा कर लिया जाएगा।

चंपत राय ने बताया कि, "हमने दिसंबर 2023 में मंदिर के निर्माण की समयसीमा तय की है और जनवरी, 2024 से इसे भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा, राम मंदिर के लिए समारोह 2023 के दिसंबर में शुरू होंगे और 2024 में मकर संक्रांति यानी 14 जनवरी तक जारी रहेंगे।"

चंपत राय ने आगे जानकारी देते हुए बताया कि, "योजना के तहत 2024 में मकर संक्रांति पर मंदिर के गर्भगृह में रामलला की मूर्ति स्थापित की जाएगी। निर्माणाधीन भव्य राम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह में भगवान राम की नई मूर्ति स्थापिक होगी, जिसे 35 फीट की दूरी से भक्तों को सर्वश्रेष्ठ दर्शन प्रदान करने के लिए नौ फीट की ऊंचाई पर स्थापित किया जाएगा, ट्रस्ट सर्वश्रेष्ठ मूर्तियों को तैयार करने के लिए देश भर के बेहतरीन मूर्तिकारों को शामिल करेगा।"

Advertisment

उन्होंने कहा कि, ट्रस्ट ने ओडिशा के मूर्तिकारों सुदर्शन साहू और वासुदेव कामथ, कर्नाटक के केकेवी मनिया और पुणे के शत्रुज्ञ देउलकर से चयन के लिए मूर्तियों का मसौदा भेजने के लिए कहा है।

ये भी पढ़ें:- मुबंई में बोले सीएम योगी, कहा- ‘UP के लोगों को अब वहां का निवासी होने पर महसूस होता है गर्व’

राम मंदिर ट्रस्ट के सचिव चंपत राय ने कहा, ‘‘हम राम लला की नई मूर्ति बनाने के लिए देश के सभी वरिष्ठ संतों के साथ चर्चा करेंगे और हमने कर्नाटक, ओडिशा और महाराष्ट्र से पत्थरों का चयन किया है।’’

Advertisment

राय ने जानकारी देते हुए कहा कि, ‘‘हमने मूर्ति की स्थापना के लिए खगोल विज्ञान और खगोल भौतिकी केंद्र के विशेषज्ञों की एक टीम गठित की है, ताकि उगते सूरज की किरणें मूर्तियों के माथे को छू सकें।’’

आपको बता दें कि त्रिपुरा के सबरूम में बृहस्पतिवार को एक रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा था, ‘‘राहुल बाबा, सबरूम से सुन लीजिए कि एक जनवरी, 2024 को अयोध्या में एक विशाल राम मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा।’’

-PTC NEWS
news up-news
Advertisment